February 27, 2024

पशुओं के लिए चलाई जा रही मुख्यमंत्री सहभागिता योजनाएं मंत्री ने गिनाई

झांसी। कैबिनेट मंत्री धर्मपाल सिंह पशुधन एवं दुग्ध विकास , राजनैतिक पेंशन , अल्प संख्यक कल्याण , मुस्लिम वक्फ एवं हज तथा नागरिक सुरक्षा विभाग की प्रेस वार्ता हेतु निराश्रित गोवंश संरक्षण से सम्बन्धित संक्षिप्त नोट झांसी मण्डल के तीनों जनपदों में निराश्रित गोवंशों के संरक्षण हेतु कुल 722 गो आश्रय स्थलों का संचालन किया जा रहा है। इनमें से झांसी में कुल 276 , जालौन में 405 व ललितपुर में 38 अस्थायी / स्थायी गोआश्रय स्थल संचालित है इनमें कुल 113544 गोवंशों का संरक्षण किया जा रहा है । मुख्यमंत्री सहभागिता योजना के लक्ष्य 18624 के सापेक्ष 14370 गोवंशों , को 7226 लाभार्थियों को देकर लाभान्वित किया गया है । पोषण मिशन के अन्तर्गत 232 लाभार्थियों को 236 गायें दी गई हैं , जिससे कुपोषित परिवारों को गाय के दूध से पर्याप्त पोषण मिल सके । इसके लिये प्रति गोवंश रू 0 30 / – प्रतिदिन के हिसाब से उन्हें हर माह गोवंश के भरण – पोषण हेतु धनराशि दी जा रही है । जनपद झांसी में कुल 276 गोआश्रय स्थलों में 36572 गोवंश का संरक्षण किया जा रहा है । सहभागिता योजना में 1974 परिवारों को 3549 गोवंश व पोषण मिशन में 100 परिवारों को 103 गायें देकर लाभान्वित किया जा रहा है । जनपद में संचालित गोशालाओं में संरक्षित गोवंश हेतु वर्ष पर्यन्त हरे चारे की नियमित उपलब्धता सुनिश्चित करने हेतु भारतीय चारागाह एवं चारा अनुसंधान संस्थान झांसी ( आई ० जी ० एफ ० आर ० आई ० ) के सहयोग से प्रथम चरण में प्रत्येक विकास खण्ड की दो गोशालाओं को चिन्हित करके जनपद की कुल 16 गोशालाओं में बहुवर्षीय हरा चारा जैसे कांटा रहित नागफनी , हाईब्रिड नैपियर ग्रास आदि का रोपण कराया जा रहा है जिससे गोशालाओं में संरक्षित गोवंश को हरा चारा मिलना प्रारम्भ हो रहा है । द्वितीय चरण में जनपद की अन्य गोशालाओं में हरा चारा उपलब्ध कराने हेतु गोचर भूमि / चारागाह व अन्य सरकारी भूमि का चिन्हांकन कर कब्जा मुक्त कराया जा रहा है जिस पर वर्षा ऋतु प्रारम्भ होते ही हरा चारा रोपण कराना प्रस्तावित है । जनपद में 05 स्थलों का चिन्हांकन करके नवीन वृहद गो संरक्षण केन्द्र स्थापित करने के लिये प्रस्ताव भेजा गया है । इनमें से 04 स्थलों हेतु प्रस्ताव निदेशालय से शासन को प्रेषित कर दिया गया है , शासन से स्वीकृति मिलते ही इन पर निर्माण की कार्यवाही की जायेगी । इसके साथ ही गोशालाओं को स्वाबलम्बी बनाये जाने के लिये गोबरधन योजना के तहत गोवंश वन्य विहार लुहरगांवघाट विकास खण्ड चिरगांव में गोबर गैस प्लांट की स्थापना का प्रस्ताव है , इसके अतिरिक्त स्थायी गोआश्रय स्थल बचावलीबुजुर्ग विकास खण्ड बडागांव , अस्थायी गोआश्रय स्थल चिरगांव देहात , मुराटा ( ग्राम पंचायत गुलारा ) विकास खण्ड चिरगांव में कम्युनिटी मॉडल पर बायोगैस प्लांट लगाने के लिये चिन्हांकन किया गया है । मण्डल में संरक्षित गोवंश हेतु वर्ष भर निर्बाध रूप से मार्च 2023 तक भूसे की उपलब्धता सुनिश्चित करने हेतु जनपद जालौन एवं झांसी में विकास खण्ड स्तर से तथा जनपद ललितपुर में जनपद स्तर से ई – टेण्डर द्वारा भूसा क्रय / दर निर्धारण की कार्यवाही प्रचलित है । जिसे दिनांक 31.05.2022 से पूर्व ही पूर्ण कर लिया जायेगा । संरक्षित निराश्रित गोवंश हेतु सीधे दानदाताओं से सम्पर्क करके उन्हें गोवंश के भरण – पोषण हेतु भूसा दान देने के लिये प्रेरित करके मण्डल में कुल 5853 कु ० तथा जनपद झांसी में अब तक कुल 1755 कुट सा दान के माध्यम से गोआश्रय स्थलों में संग्रहीत किया गया है । मण्डल में दान व क्रय के बध्यम से अब तक कुल 139887 कु ० भूसा मण्डल की विभिन्न गोशालाओं में संग्रहीत किया गया है , हमें पूर्ण विश्वास है कि इस वर्ष गोवंश हेतु वर्ष के उत्तरार्ध में भी कोई समस्या ही आयेगी ।

रिपोर्ट – मुकेश वर्मा/राहुल कोष्टा

error: Content is protected !!