June 22, 2024

जल को बनाया नहीं जा सकता परंतु जल का संरक्षण किया जा सकता है अमृत सरोवर के कार्य प्रारंभ में विभिन्न जनप्रतिनिधियों ने भी बढ़-चढ़कर प्रतिभाग किया

झांसी। जिलाधिकारी रविंद्र कुमार ने कहा कि आजादी के अमृत महोत्सव के अंतर्गत अमृत सरोवर योजना केन्द्र/प्रदेश सरकार की महत्वाकांक्षी योजना है। उन्होंने कहा कि इन सरोवरों को बहुउद्देश्यीय स्वरूप में बनाया जाएगा। मानव जीवन का आधार जल है। लेकिन धीरे-धीरे जलस्तर कम होता जा रहा है। जल स्तर को सामान्य बनाए रखने के लिए पूर्व में बने हुये तालाबों का जीर्णोद्वार अमृत सरोवर योजना के अर्न्तगत कराया जा रहा हैं। जिससे जनपद के भूगर्भ जल का संरक्षण व संवर्धन हो सके।

जिलाधिकारी ने अमृत सरोवर योजना के अतंर्गत तालाब के चारों ओर वृहद वृक्षारोपण कराने के निर्देश देते हुए कहा कि तालाब को रमणीय क्षेत्र भी बनाया जाना है अतः शोभा कार पौधों के साथ-साथ ऐसे पौधों कोई भी रोपण किया जाए जो वहां के केयर टेकर की आय का जरिया बने। सीडीओ श्री शैलेष कुमार ने जानकारी देते हुए बताया कि जल संरक्षण हेतु भारत सरकार द्वारा चलाई जा रही महत्वाकांक्षी योजना के तहत जनपद की में 75 अमृत सरोवर का निर्माण कराये जाने का लक्ष्य है आज जनपद में 50 तालाबों पर कार्य प्रारंभ कराया जा रहा है, जहाँ पर तालाब हैं, उन्हीं तालाबों का इस योजना के तहत जीर्णोद्धार कराया जायेगा तथा जहाँ पर बड़ा तालाब नहीं है वहाँ पर नये तालाब का निर्माण अमृत सरोवर के रूप में किया जायेगा।

उन्होंने बताया कि आज ग्राम पंचायत रौनीजा, विकासखंड बड़ागांव में तालाब का बनाए जाने के लिए जिलाधिकारी ने विधि विधान के साथ पूजा अर्चना करते हुए कार्य को प्रारंभ किया। तालाब के निर्माण कार्य में कच्चे कार्य महात्मा गाँधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम के अंतर्गत मनरेगा मजदूरों से कराया जायेगा। जिसके लिए मानव दिवस सृजित किये जायेंगे। जिसमें एक मजदूर की दैनिक मजदूरी 213 रूपये देय है। पंचायत निधि (राज्य वित्त आयोग) से पक्के कार्य कराये जायेगें। मुख्य विकास अधिकारी ने बताया कि इन तालाबों में अमृत सरोवर योजना के तहत तालाब के चारो ओर पाथ, ऊंची दीवार के साथ रैम्प सीड़ी युक्त, आउट लेट/इन लेट व तालाब के चारो ओर तार के माध्यम से फेसिंग का कार्य कराया जायेगा। इसके अतिरिक्त बैठने के लिए बेंच और ध्वजारोहण हेतु भी एक पक्का स्थान बनाया जाएगा, जहां पर गणमान्य जनों द्वारा गणतंत्र दिवस स्वतंत्रता दिवस सहित अन्य समारोह पर ध्वजारोहण किया जा सके। अमृत सरोवर का भूमि पूजन के पश्चात जिलाधिकारी श्री रविंद्र कुमार ग्राम पंचायत रौनीजा में स्थित कंपोजिट प्राथमिक विद्यालय का भ्रमण किया। उन्होंने उच्च प्राथमिक एवं प्राथमिक कक्षाओं का निरीक्षण किया, और कक्षा 7 कक्षा 6 कक्षा 5 एवं कक्षा एक के बच्चों से वार्ता की। कक्षा 7 के बच्चों से पुस्तक के पाठ पढ़ने को कहा इसी प्रकार कक्षा 6 के बच्चों से अंग्रेजी में नाम ,पता पूछा कक्षा एक के छोटे बच्चों से उनका नाम पूछा बच्चों ने सभी सवालों का जवाब अच्छे से दिया।जिलाधिकारी ने बच्चों को कहा कि आप लोग मेहनत से पढ़ें तथा स्कूल नियमित रूप से आया करें। इसके बाद स्कूल की पेयजल व्यवस्था, शौचालय, स्मार्ट क्लास ,एवं रसोईघर चेक किया।

रसोई घर में जाकर बनने वाली सब्जी तथा भोजन में डालने वाले तेल को चेक किया। उन्होंने निर्देशित करते हुए कहा कि बच्चों को अच्छा एवं पोषण युक्त भोजन मिलना चाहिए। निरीक्षण के दौरान उन्होंने स्कूल की व्यवस्था को देख संतुष्ट नजर आए, उन्होंने बच्चों की कम उपस्थिति पर प्रधानाध्यापक को निर्देशित करते हुए कहा कि बच्चों की उपस्थिति को बढ़ाएं । स्कूल के निरीक्षण के बाद जिलाधिकारी श्री रविंद्र कुमार द्वारा ग्राम पंचायत रौनीजा विकासखंड बड़ागांव स्थित आंगनवाड़ी केंद्र का निरीक्षण किया एवं आंगनवाड़ी केंद्र अंतर्गत लाल एवं पीली श्रेणी के बच्चों एवं उन्हें दिए जा रहे पोषाहार के संबंध में आंगनवाडी कार्यकत्री से जानकारी ली। उन्होंने आंगनवाड़ी केंद्र पर उपलब्ध पंजिका को देखा तथा आवश्यक निर्देश दिए। इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी श्री शैलेष कुमार, उप जिलाधिकारी सदर श्रीमती सान्या छाबड़ा, उप श्रम आयुक्त श्री नईम खान, डीपीआरओ सीजीआर गौतम,श्रम एवं रोजगार श्री राम अवतार, परियोजना निदेशक उपेंद्र पाल, जनप्रतिनिधियों के प्रतिनिधि सहित खण्ड विकास अधिकारी, ग्राम सचिव, जे0ई0, ग्राम प्रधान आदि उपस्थित रहे।

रिपोर्ट – मुकेश वर्मा/राहुल कोष्टा

error: Content is protected !!