June 16, 2024

झांसी वासियों ध्यान दे, जाम, दुर्घटना और कहा हुआ रूट का बदलाव इसकी जानकारी के लिए डाउन लोड करे मैपल एप

झांसी। जनपद की यातायात व्यवस्था को चुस्त दुरुस्त रखने के लिए प्रशासन लगातार प्रयासरत है। इसके लिए लगातार संगोष्ठी और बैठके आयोजित कर शासन प्रशासन के दिशा निर्देशों की जानकारियां दी जाती है। इसी क्रम में संगोष्ठी आयोजित कर मेपल एप की जानकारी दी गई। इस एप के जरिए आपका सफर सुरक्षित और सफल होगा।मंगलवार को पुलिस लाइन सभागार में आयोजित की गई संगोष्ठी में आए आईजी सुभाष चंद्र दुबे ने संगोष्ठी के बाद जानकारी देते हुए बताया की जनपद को यातायात व्यवस्था आ रही अवरोधक से मुक्त कराने के संगोष्ठी आयोजित कर मेपल एप की जानकारी दी जा रही है। संगोष्ठी में संभ्रांत नागरिक, नागरिक सुरक्षा संगठन के वार्डन, पुलिस कर्मियों, यातायात पुलिस कर्मियों को इस एप की जानकारी देते हुए एप डाउन लोड कराया और उन्हे निर्देश दिए गए की वह अपने यहां आने वाले हर व्यक्ति को इस एप के बारे में जानकारी देकर उसके मोबाइल में एप डाउन लोड कराएंगे। उन्होंने बताया की इस एप के डायन लोड होने से नागरिक अपने घर से निकलने से पहले इस एप से जान सकेंगे की जिस मार्ग से वह जाने वाले है उस मार्ग पर कोई गतिरोध तो नही है। साथ ही यह भी जान सकेंगे कहा हादसा हुआ, कहा जाम लगा हुआ है। यह आम जनता के सफल सुरक्षित सफर के लिए है। इस एप को डाउन लोड करने से मिलेगी यह जानकारी दैनिक यातायात सलाह जैसे जुलूस, विरोध, रैलियां, वीआईपी मूवमेंट, सड़क बंद, रूट बदलाव, की जानकारियां मिल सकेंगी। साथ ही सड़क सुरक्षा जानकारी जैसे ब्लैक स्पॉट, खतरनाक मोड़, दुर्घटना संभावित क्षेत्र आदि, ट्रेफिक मैनेजमेंट प्लेट फार्म के माध्यम से इन जानकारी। आगमन के अनुमानित समय और चयनित स्थानों के बीच की दूरियां साथ अच्छे मार्ग का विकल्प देना। एप के माध्यम से वांछित स्थानों पर आसानी से पहुंच सकते है। यातायात से संबंधित समस्याओं जैसे गति, पार्किंग, क्षेत्र जलभराव, सड़क, की स्थिति, ओर खतरे ग्रिड लॉक, ट्रेफिक लाइट, की विफलता, दुर्घटना की सूचनाएं इस एप पर भी तत्काल दे सकते है। यातायात पुलिस को अलर्ट के रूप में भीड़भाड़ दुर्घटनाओं दंगे जैसी घटनाओं को रोकने की भी नागरिक इस एप पर जानकारी दे सकते है। इस एप के माध्यम से आप उत्तर प्रदेश के विभिन्न शहरों में पार्किंग व्यवस्था भी देख सकते है। इस एप में एंबुलेंस को भी प्राथमिकता की गई है। इस एप के माध्यम से एंबुलेंस की लाइव लोकेशन भी देख सकते है की विषम परिस्थितियों में एंबुलेंस सेवा के लिए एंबुलेंस की लाइव लोकेशन कितनी दूरी पर है।

रिपोर्ट – मुकेश वर्मा/राहुल कोष्टा

error: Content is protected !!