July 17, 2024

गौ संरक्षण के लिए इच्छुक व्यक्ति दे सकते हैं भूसा दान, क्षेत्र में लोगों से करें अपील

झांसी। मुख्यमंत्री की परिकल्पना को मूर्त रूप देने के उद्देश्य से जिलाधिकारी रविंद्र कुमार निरंतर जनपद को अभियानों के माध्यम से विकास पथ पर ले जाने का कार्य कर रहे हैं। जिलाधिकारी द्वारा जनपद में निरंतर अभियानों के माध्यम से प्रति व्यक्ति को जागरूक किया जा रहा है और प्रति व्यक्ति संबंधित अभियान से जुड़ रहा है जिसके सकारात्मक परिणाम भी जनपद में देखने को मिल रहे हैं। इसी क्रम में आज जिलाधिकारी रविंद्र कुमार ने गांव के विकास की प्रथम कढ़ी के साथ ग्राम पंचायत अधिकारी व ग्राम विकास अधिकारियों के साथ गांव के विकास के मुद्दे को लेकर और गांव में होने वाले विकास के संबंध में उन्होंने उन्हें बहुत ही सूक्ष्मता के साथ जानकारी दी,जिलाधिकारी ने कहा सभी सचिव एक गांव की अच्छी कार्य योजना बनाएं गांव को बेहतर से बेहतर बनाने का कार्य करें। उन्होंने कहा गांव में खेल के मैदान स्थापित होने चाहिए जो खेल विकास अभियान जनपद में चलाया जा रहा है उसे आगे बढ़ाया जाए। जिसमें प्रत्येक खेल मैदान में युवाओं के दौड़ने के लिए मैदान में ट्रैक का निर्माण ,कबड्डी का मैदान ,एक अखाड़ा ,एक वॉलीबॉल कोर्ट ,ओपन जिम ,फुटबॉल फील्ड एक्सरसाइज कसरत करने के अन्य संसाधन संबंधित अन्य खेल सामग्री खेल मैदान में स्थापित होनी चाहिए। उन्होंने कहा प्रत्येक गांव में अमृत सरोवर योजना के अंतर्गत अमृत तलाब बनाए जाएं,गांव में ऐसे तालाबों को चिन्हित किया जाए जो सूख चुके हैं समतल हो चुके हैं और जो किसी दिव्य स्थान के आसपास हैं। जो आबादी के पास तालाब है जिसमें गंदा पानी नहीं जाता है और समांतर वाले तालाबों को चिन्हित किया जाए, जिससे कि जनपद में अधिक से अधिक अमृत तालाब स्थापित किए जा सकें। जिलाधिकारी ने कहा हम सबको बरसात का पानी बचाना है इस मुहिम के साथ सभी ग्राम सचिव इस अभियान में लगे और अमृत तालाबों को चिन्हित करें और उन पर कार्य करें। जिलाधिकारी ने गांव के बच्चों के लिए उनके सपनों को साकार करने के लिए प्रत्येक ग्राम सचिव को यह भी निर्देश दिए हैं कि गांव में पंचायत भवन के अतिरिक्त कक्ष में अच्छी जगह चिन्हित करते हुए पुस्तकालय स्थापित किए जाएं उन्होंने कहा पुस्तकालय में प्रतियोगिताओं संबंधित पुस्तकों को रखवाया जाए,जिससे कि आने वाले समय में विद्यार्थी प्रतियोगी परीक्षा पास करके अपने सपनों को साकार कर सकें और रोजगार प्राप्त कर सकें। जिलाधिकारी ने ग्राम सचिवों को यह भी निर्देश दिए कि गांव में जो ग्राम समाज की अधिक से अधिक जमीन हो उस जमीन को चिन्हित करते हुए उस जमीन पर अमृत वन बनाया जाए, जिसमें नींबू,अमरूद, जामुन,बेर,नाशपाती,शहतूत आदि के पौधे लगाए जाएं।जिससे कि अमृत वन बन सके, ऐसे अमृत वन को जो गांव में सबसे सक्रिय महिला स्वयं सहायता समूह को हैंडओवर किया जाए जिसका रखरखाव स्वयं सहायता समूह द्वारा किया जाएगा और उसमें कार्य करने के लिए उन्हें मनरेगा के अंतर्गत रोजगार भी दिया जाएगा। जिलाधिकारी ने सभी ग्राम पंचायत सचिवों को निर्देश दिये कि गौ संरक्षण के लिए गांव में भूसा दान अभियान चलाया जाए और उसकी मुनादी कराई जाए। जो इच्छुक व्यक्ति गौ संरक्षण के लिए गौशालाओं के लिए भूसा दान कर सकते हैं। उन्होंने अधिक से अधिक गांव स्तर पर वाटर हार्वेस्टिंग बनाए जाने के भी निर्देश दिए उन्होंने कहा “जल है तो कल है” इसी मुहिम के आधार पर लोगों को जल के प्रति जागरूक किया जाए और अधिक से अधिक बरसात का जल बचाया जाए। जिलाधिकारी ने यह भी निर्देश दिए कि सभी को गांव के विकास के लिए एक साथ जोड़ा जाए और गांव में चहुंमुखी विकास कराया जाए। आपका गांव खुशहाल गांव हो इस मुहिम के आधार पर प्रत्येक ग्राम सचिव अपने गांव के लिए कार्य करें और गांव में आवेदन कराए जाने के लिए सीएससी भी स्थापित कराए जाएं, जिससे कि संबंधित जानकारी व्यक्ति को अपने गांव में ही प्राप्त हो जाए। जिलाधिकारी ने कहा जिन गांव में अभी पंचायत भवन पूर्ण नहीं हुए हैं उन्हें तत्काल पूर्ण कराया जाए कोई भी गांव बिना पंचायत भवन से वंचित नहीं रहना चाहिए सभी ग्राम पंचायत सचिव अपने इस काम में ब्रह्द स्तर पर लगकर पूर्ण कराएं । उन्होंने कहा गांव की विकास मुखी व्यवस्था को मजबूत करने के लिए संबंधित लेखपाल व ग्राम पंचायत सचिव का आपसी संबंध से एक होना चाहिए जो आपस में संबंध बनाकर कार्य नहीं कर सकते ऐसे सचिवों को लेखपालों को चिन्हित किया जाएगा जो सचिव कार्य करने के इच्छुक नहीं है उन्हें तत्काल हटाए जाने के निर्देश दिए।

रिपोर्ट – मुकेश वर्मा/राहुल कोष्टा