July 12, 2024

गणेश शंकर विद्यार्थी एक समाज सुधारक भी थे

झांसी। पत्रकार जगत के पुरोधा पत्रकार अमर शहीद गणेश शंकर विद्यार्थी जी के बलिदान दिवस पर झांसी मीडिया क्लब के तत्वावधान में अध्यक्ष मुकेश वर्मा के नेतृत्व में इलाईट चौराहा स्थित गणेश शंकर विद्यार्थी पार्क में उनकी प्रतिमा पर माल्यार्पण कर उनके जीवन पर प्रकाश डाला।

इस दौरान झांसी मीडिया क्लब के अध्यक्ष मुकेश वर्मा ने कहा की गणेश शंकर विद्यार्थी जी पत्रकार के साथ साथ एक समाज सुधारक भी थे। वह निर्भीक पत्रकारिता के साथ साथ समाज को सुधारने के लिए अपनी लेखनी से खबर प्रकाशित करते थे। वही वरिष्ठ पत्रकार राम कुमार साहू ने कहा की गणेश शंकर विद्यार्थी जी का आज बलिदान दिवस है, वह भीड़ से अलग थे, लेकिन उससे घबराते भी थे, इसलिए पत्रकारिता जगत में भी उनका अलग और सम्मान पूर्वक नाम लिया जाता है। उनका जन्म 26 अक्टूबर 1080 को अंतर्सुइया में हुआ था उन्होंने 16 वर्ष की उम्र में ही अपनी पहली किताब हमारी आत्मोसर्गता लिख डाली थी। गणेश शंकर विद्यार्थी अपनी पूरी जिंदगी में पांच बार जेल गए, उन्होंने किसानों ओर गरीबों को उनका हक दिलाने के लिए जीवन भर संघर्ष किया। वह आजादी के आंदोलन में भी संघर्षशील रहे। छात्र जीवन से वाम पंथी आंदोलन को आगे बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते रहे। जब अंग्रेजों द्वारा भगत सिंह, राजगुरु, ओर सुखदेव को फांसी दिए जाने की देशभर में तीखी प्रतिक्रिया हुई इससे घ्बराकर अंग्रेजों ने देश में सांप्रदायिक दंगे भड़का दिए 25 मार्च 1931 में इसी दंगे में उनकी हत्या कर दी गई। यह दंगा इतना भयानक था की भाई भाई के खून की होली खेलने लगा। इस दंगे में कई निर्दोषों की जान चली गई थी। इसके उपरांत सभी पत्रकारों ने उनकी प्रतिमा पर माल्यार्पण कर श्रद्धांजलि दी। इस दौरान अतुल वर्मा,रानू साहू,राहुल कोष्टा,अख्तर खान, विजय कुशवाह, प्रभात साहनी, संजू गोस्वामी, धीरज शिवहरे,अमित रावत,दुर्गाशकर दीक्षित,अरुण वर्मा,संजीव गोस्वामी,नवीन यादव,बृजेश साहू,प्रमेंद्र सिंह, बृजेश कुशवाह, आदि उपस्थित रहे।

रिपोर्ट – मुकेश वर्मा/राहुल कोष्टा