July 12, 2024

नकल कराने वाले संगठित गिरोह पर लगेगी रासुका

संवेदनशील जनपदों में एस0टी0एफ0 की होगी पैनी नजर सी0सी0टी0वी0 कैमरे की नजर में करायी जायेगी परीक्षायें

झांसी। उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव दुर्गा शंकर मिश्र द्वारा वर्ष 2022 की उ0प्र0 माध्यमिक शिक्षा परिषद, प्रयागराज द्वारा आयोजित बोर्ड परीक्षा को सकुशल सम्पन्न कराये जाने हेतु वीडियो कान्फ्रेन्सिंग के माध्यम से प्रदेश के समस्त मण्डलायुक्तों, पुलिस आयुक्तों, जिलाधिकारियों तथा वरिष्ठ पुलिस अधीक्षकों के साथ बैठक की गई। उन्होंने निर्देश दिया कि जिला प्रशासन द्वारा प्रश्न पत्रों के पहुंचने से पूर्व ही प्रश्न पत्रों की सुरक्षा हेतु आवश्यकतानुसार पुलिस व्यवस्था सुनिश्चित कराते हुए उन्हें जनपद मुख्यालय में सुरक्षित स्थान पर पुलिस अभिरक्षा में रखवाया जाये। उन्होंने यह भी निर्देश दिया कि परीक्षा केन्द्रों पर प्रश्न पत्रों का वितरण जिलाधिकारी द्वारा नामित अधिकारी की निगरानी में जिला विद्यालय निरीक्षक द्वारा पुलिस अभिरक्षा में कराया जाये। उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन यह सुनिश्चित करें कि समस्त परीक्षा केन्द्रों पर परीक्षा की अवधि में पर्याप्त सशस्त्र सुरक्षा बल उपलब्ध रहे। मुख्य सचिव द्वारा जिलाधिकारियों को निर्देश दिये गये कि नकल विहीन परीक्षा कराने हेतु जनपद में जोनल तथा सेक्टर मजिस्ट्रेट तैनात कर लिए जाये, जो परीक्षा अवधि में परीक्षा केन्द्रों का नियमित निरीक्षण तथा पर्यवेक्षण करें। संगठित रूप से नकल कराने वालों पर रा0सु0का0 के तहत तत्काल कार्यवाही की जाये। अफवाह फैलाने वालों पर विशेष ध्यान रखा जाये तथा उन पर सख्त कार्यवाही की जाये। संवेदनशील केन्द्रों पर एस0टी0एफ0 द्वारा नजर रखी जाये। मुख्य सचिव द्वारा यह भी अपेक्षा की गयी कि समस्त जिलाधिकारी नकल विहीन व शान्तिपूर्ण परीक्षा संचालन हेतु संबंधित अधिकारियों की बैठक शीघ्र कर लें तथा टीम बनाकर परीक्षा केन्द्रों की आधारभूत सुविधाओं का शत प्रतिशत स्थलीय निरीक्षण करा लें। उन्होंने यह भी कहा कि परीक्षा अवधि में निर्बाध विद्युत आपूर्ति की व्यवस्था सुनिश्चित करा ली जाय। इसी प्रकार स्वास्थ्य विभाग, परिवहन विभाग, नगर विकास विभाग, पचायती राज विभाग से अपेक्षा की गयी कि बोर्ड परीक्षा के दृष्टिगत परीक्षा केन्द्रों पर आवश्यक सुविधाओं उपलब्ध करायें, जिससे परीक्षार्थियों को किसी प्रकार की कठिनाई का सामना न करना पड़े। मुख्य सचिव द्वारा समस्त जिलाधिकारी एवं पुलिस अधिकारियों से अपेक्षा की गई कि वह स्वयं भी परीक्षा केन्द्रों का निरीक्षण कर लें। अपर मुख्य सचिव माध्यमिक शिक्षा श्रीमती आराधना शुक्ला द्वारा बताया गया कि प्रदेश में 8,373 परीक्षा केन्द्रों पर 51,92,689 परीक्षार्थी परीक्षा दे रहे है। प्रश्न पत्रों को रखने की व्यवस्था डबल लाक युक्त अलमारी मेे किया गया है। प्रत्येक परीक्षा केन्द्र के प्रत्येक परीक्षा कक्ष में सी0सी0टी0वी0 तथा राउटर स्थापित किया गया है। इसके पर्यवेक्षण हेतु माध्यमिक शिक्षा के शिविर कार्यालय, लखनऊ में केन्द्रीयकृत राज्य स्तरीय कन्ट्रोल रूम की स्थापना की गयी है। इस कन्ट्रोल रूम से परीक्षा अवधि में प्रत्येक जनपद के प्रत्येक परीक्षा केन्द्र के प्रत्येक परीक्षा कक्ष कीं निगरानी की जायेगी। नकल विहीन परीक्षा कराना प्रत्येक जनपद के जिला विद्यालय निरीक्षक का दायित्व होगा, जो निरन्तर जिला प्रशासन से समन्वय बनाये रखेगें। उन्होंने बताया कि प्रदेश की बोर्ड परीक्षा में प्रथम बार साफ्टवेयर के माध्यम से कक्ष निरीक्षकों एवं अन्य कार्मिकों की तैनाती की जा रही है, जिसमें उनकी दैनिक उपस्थिति होगी। परीक्षा केन्द्र पर मोबाइल फोन ले जाना वर्जित रहेगा। वीडियो कान्फ्रेन्सिंग में पुलिस महानिदेशक मुकुल गोयल ऑनलाइन उपस्थित थे। इनके अतिरिक्त अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी, प्रमुख सचिव परिवहन राजेश कुमार सिंह, अपर पुलिस महानिदेशक कानून-व्यवस्था प्रशान्त कुमार, अपर पुलिस महानिदेशक एस0टी0एफ0 अमिताभ यश, सचिव बेसिक शिक्षा अनामिका सिंह, सचिव गृह तरूण गाबा, विशेष सचिव माध्यमिक शिक्षा शम्भु कुमार व जय शंकर दुबे, निदेशक माध्यमिक शिक्षा विनय कुमार पाण्डेय सहित एनआईसी झांसी में डीआईजी योगेंद्र कुमार, जिलाधिकारी रविंद्र कुमार, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक शिवहरी मीणा, जिला विद्यालय निरीक्षक कोमल सिंह यादव आदि उपस्थित रहे।

रिपोर्ट – मुकेश वर्मा/राहुल कोष्टा