May 20, 2024

एन.एच.एम. की गतिविधियों में कम व्यय पर बिफरे मण्डलायुक्त

झांसी। राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के कार्यों की प्रगति की मण्डलायुक्त डा. अजय शंकर पाण्डेय द्वारा समीक्षा की गई। समीक्षा में एन.एच.एम. की स्वीकृत धनराशि के सापेक्ष मण्डल के तीनों जनपदों में अपेक्षानुरूप व्यय न पाये जाने पर मण्डलायुक्त ने मुख्य चिकित्साधिकारियों को फटकार लगाई। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य कार्यक्रमों के विभिन्न मदों में स्वीकृत धनराशि का व्यय वित्तीय वर्ष की समाप्ति तक पूर्ण न करने पर उत्तरदायी अधिकारियों के विरूद्ध कठोर कार्यवाही की जायेगी।एन.एच.एम. के अन्तर्गत स्वीकृत आयुष्मान भारत योजना के अन्तर्गत ग्रामीण क्षेत्रों में प्राथमिक स्वास्थय केन्द्र एवं उप स्वास्थ्य केन्द्रों को हैल्थ एण्ड वैलेनेंस सेन्टर/आरोग्य केन्द्र के रुप में स्थापित किये जाने के मद में कम व्यय पाये जाने पर मण्डलायुक्त ने कहा कि जिलाधिकारी अपने स्तर पर सभी स्वीकृत मदों की मदवार समीक्षा करें तथा संबंधित अधिकारियों को साप्ताहिक लक्ष्य आबंटित करते हुए वित्तीय वर्ष की समाप्ति तक सभी मदों में व्यय सुनिश्चित करायें। मण्डलायुक्त ने कहा कि माह फरवरी तक एन.एच.एम. के अन्तर्गत स्वीकृत लेखा मदों में से आधे से अधिक लेखा मदों में अब तक व्यय नहीं किया गया है। सभी सी.एम.ओ. अपने संबंधित अधिकारियों के साथ त्वरित गति से विशेष कार्ययोजना तैयार कर लम्बित गतिविधियों का क्रियान्वयन करायें जो नोडल अधिकारी अपने कार्यों में रूचि नहीं ले रहे हैं उनके विरूद्ध कार्यवाही का प्रस्ताव भेजें। मण्डलायुक्त ने जिलाधिकारियों को निर्देश दिये हैं कि वे अपने स्तर पर विशेष वित्तीय समीक्षा कर जनपद स्तर पर ऐसी कार्ययोजना तैयार करायें ताकि स्वीकृत सभी गतिविधियों का क्रियान्वयन वित्तीय वर्ष की समाप्ति से पूर्व हो सके साथ ही इसकी साप्ताहिक समीक्षा करें। अपर निदेशक चिकित्सा स्वास्थ्य डा. अल्पना बरतारिया द्वारा व्यय संबंधी प्रस्तुत किये गये आंकड़ों में जनपद झाँसी में स्वीकृत धनराशि 7923.00 लाख रु. के सापेक्ष कुल व्यय रु. 3135.00 लाख है जोकि कुल आबंटित धनराशि का मात्र 39.33 प्रतिशत है। जनपद जालौन में कुल धनराशि रु 5369.00 लाख के सापेक्ष रु. 2533.00 लाख व्यय किये गये हैं जोकि कुल आबंटित धनराशि का मात्र 47.17 प्रतिशत है तथा जनपद ललितपुर में कुल धनराशि 5505.00 लाख रु. के सापेक्ष 3249.00 लाख रु. व्यय किये गये है जोकि कुल आबंटित धनराशि का मात्र 59.01 प्रतिशत है। मण्डलायुक्त ने निर्देश दिये हैं कि मण्डलीय अधिकारी जनपदों में भ्रमण कर व्यय के नियोजन में तकनीकी सहयोग प्रदान करें इस हेतु उन्होंने संयुक्त निदेशक डा. रेखारानी व डा. आर.के. सोनी को जनपदीय अधिकारियों से लगातार संपर्क में रहने को कहा। मण्डलीय परियोजना प्रबंधक एन.एच.एम. आनन्द चौबे को साप्ताहिक वित्तीय सूचनाओं के प्रस्तुतिकरण हेतु दायित्व सौंपा है।

रिपोर्ट – मुकेश वर्मा/राहुल कोष्टा

ये भी देखें

error: Content is protected !!