June 16, 2024

पंजाब : जिस क्षेत्र में रोका गया था पीएम काफिला, वहां से नदी में मिली पाकिस्तानी नाव, सुरक्षा एजेंसियां जांच में जुटीं

पंजाब के फिरोजपुर में शुक्रवार को पाकिस्तानी नाव मिलने से हड़कंप मच गया। जिस इलाके से यह नाव बरामद की गई है। बुधवार को वहीं पर पीएम के काफिले को रोका गया था। सुरक्षा एजेंसियां इसे बहुत ही गंभीरता के साथ ले रही हैं। नाव में सवार लोगों की तलाश की जा रही है।

बुधवार को मोदी की सुरक्षा में हुई भारी चूक

बुधवार को मोदी की सुरक्षा में हुई भारी चूक – फोटो : ANI

विस्तार

भारत-पाकिस्तान की सीमा पर सतलुज नदी में एक पाकिस्तानी नाव ममदोट क्षेत्र से मिली है। इस नाव पर कौन भारतीय क्षेत्र में घुसे हैं, इस संबंध में सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) और स्थानीय पुलिस जांच कर रही है। बता दें कि पंजाब से सटी भारत-पाक सरहद के साथ सतलुज नदी बहती है। कई स्थानों पर एक-दूसरे की सीमा पर नदी प्रवेश करती है।

बीएसएफ को यह नाव ममदोट के पास बीओपी डीटी मल के नजदीक मिली है। इससे पहले भी कई बार पाक नाव भारतीय इलाके से मिल चुकी हैं। इन दिनों सरहद पर घनी धुंध पड़ रही है, इसकी आड़ में सरहद पर दोनों देशों के तस्कर सक्रिय हैं। यह एक ऐसा रास्ता है, जिसके जरिये तस्कर आसानी से हेरोइन और हथियारों की तस्करी करते हैं।

खुफिया सूत्रों के मुताबिक ममदोट में पड़ती बीएसएफ की बीओपी डीटी मल के पास सतलुज नदी से शुक्रवार सुबह पाकिस्तानी नाव मिली है। इस नाव को देख बीएसएफ अधिकारियों में हड़कंप मच गया है। हालांकि नाव से कुछ बरामद नहीं हुआ लेकिन जहां से नाव मिली है, वहां आसपास क्षेत्र में सर्च ऑपरेशन चलाया गया है। आसपास के गांव के लोगों से बीएसएफ ने पूछताछ भी की है। स्थानीय पुलिस भी इस संबंध में जांच कर रही है। ममदोट क्षेत्र में बहुत से तस्कर सक्रिय हैं। यहां से असलहा और हेरोइन की कई खेप पकड़ी जा चुकी हैं। 

फिरोजपुर में ही फंसा था पीएम का काफिला
पांच जनवरी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का काफिला भी फिरोजपुर जिले में फंस गया था। पाकिस्तान से सीमा लगने की वजह से फिरोजपुर बेहद संवेदनशील इलाका है। पीएम का काफिला बुधवार को तकरीबन 20 मिनट बेहद असुरक्षित एरिया में रुका रहा। जिस इलाके में मोदी का काफिला रुका था, वह आतंकियों के अलावा हेरोइन तस्करों का गढ़ माना जाता है। पिछले साल सितंबर माह में इसी क्षेत्र में आतंकी वारदात को अंजाम दिया गया था। 

तलवाई भाई से कुछ दूरी पर जहां काफिला रुका, वहां से भारत-पाक सीमा महज 30 किलोमीटर दूर है और इस क्षेत्र में लगातार टिफिन बम और अन्य विस्फोटक पदार्थ मिलते रहे हैं। जलालाबाद कस्बे में 15 सितंबर 2021 में धमाका हुआ, वह भी फिरोजपुर के नजदीक है और केंद्रीय एजेंसियों की जांच में साफ हो चुका है कि वह आतंकी हमला था। 

error: Content is protected !!