May 24, 2024

चंद घंटों में हत्या का आरोपी तथा चार लुटेरे गिरफ्तार, एक स्कूटी, दो बाइक सहित तमंचा कारतूस बरामद


झांसी। शनिवार की तड़के कोतवाली क्षेत्र में अधिवक्ता के मुंशी की गोली मारकर हुई हत्या के आरोपी को चंद घंटों में कोतवाली पुलिस ने दबोच लिया। वही समथर/मोठ थाना क्षेत्र में दो दिन पूर्व हुई दिनदहाड़े लूटकांड की घटना को अंजाम देने वाले चार लुटेरों को दबोच कर उनके कब्जे से तमंचा कारतूस, एक स्कूटी दो बाइक सहित नकदी बरामद कर ली। इन दोनो घटनाओं के आरोपियों को गिरफ्तारी कर आज पुलिस ने खुलासा कर दिया है।


शनिवार को पुलिस लाइन में आयोजित पत्रकार वार्ता में एसएसपी शिवहरि मीना ने जानकारी देते हुए बताया की बीते दिनों समथर थाना क्षेत्र स्थित किसान सेवा केंद्र फिलिंग स्टेशन का मुनीम जयराम चोरसिया पम्प का कैश 6 लाख 25 हजार रूपया पास में स्थित एसबीआई बैंक में जमा करने जा रहा था। कुछ दूरी पर चलने के बाद पीछे से दो बाइक सवार चार युवकों ने जयराम की बाइक में लात मारकर उसे गिरा दी फिर दो युवकों ने रिवाल्वर अड़ाकर उसे डराते हुए हाथ से रूपयो से भरा बैग छीन कर भाग गए थे। इस घटना के संबंध में आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर उनकी तलाश शुरू कर दी थी। तभी समथर थाना प्रभारी महाराज सिंह ने आज शिवम यादव निवासी ग्राम कोट थाना सीपरी बाजार, साहिल दोहरे, रहीश यादव निवासी जिगना जिला दतिया तथा शिवम जोशी निवासी पण्डोखर जिला दतिया को गिरफ्तार कर उनके कब्जे से दो तमंचे तीन जिंदा कारतूस, एक आधा जला कारतूस, एक स्कूटी दो घटना में प्रयुक्त बाइक बरामद कर ली। समथर थाना स्वाट तथा सर्वलान्स टीम ने इन लुटेरों को आज दातावली रोड के पास से उस समय गिरफ्तार किया जब वह कोई बड़ी वारदात को अंजाम देने की फिराक में मौजूद थे। वही एसएसपी ने बताया की शहर कोतवाली क्षेत्र में आज सुबह हुई फजल की गोली मारकर हत्या करने वाले आरोपी काली चरण उर्फ कल्ला को घटना को अंजाम देने के चंद घंटों के अंदर ही दबोच लिया। उन्होंने बताया की घटना का कारण मृतक की पत्नी हत्यारोपी के साथ रहती थी और मृतक और उसकी पत्नी तथा हत्यारोपी के बीच कई बार जमीन को लेकर विवाद हो चुका था। इसी विवाद के चलते आज फजल की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी वही एसएसपी ने बताया की समथर में पंप के मेनेजर के साथ हुई लूटकांड की घटना की योजना उन्ही के पंप के पास रहने वाले शिवम जोशी ने अपने साथियों के साथ मिलकर बनाई थी। उन्होंने बताया की शिवम लगातार पंप पर बैठता था और वह प्रतिदिन देखता था की मेनेजर लापरवाही से रुपए बैंक में जमा करने जाते थे, किसी से भी लिफ्ट ले लेते थे। इसी का फायदा उठाकर इस घटना को अंजाम दिया गया है।।

रिपोर्ट – मुकेश वर्मा/राहुल कोष्टा

error: Content is protected !!