March 4, 2024

डीआईजी के पास लगाई न्याय की गुहार, बोला कोई पंचायत नही हुई, आरोपी बचने के लिए फैला रहा भ्रामक

झांसी। एरच थाना क्षेत्र के ग्राम बामौर में मंदिर तोड़फोड़ का प्रकरण गर्माता जा रहा है। मंदिर के पुजारी ने डीआईजी के पास पहुंच न्याय की गुहार लगाते हुए बताया की गांव में कोई पंचायत नही हुई। दबंग आरोपी खुद को बचाने के लिए मनगढ़ंत भ्रमकता फैला रहा की उसका समझोता हो गया वह मंदिर का निर्माण कराएगा। पुजारी का कहना है की दबंगों ने मंदिर को पुनः निर्माण की बात कही दस्तावेजों में लिखकर नही दी। उन्होंने डीआईजी से कार्यवाही की मांग की है। एक ओर जहां देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ओर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ पुराने मंदिरों को संवारने में लगे हुये हैं। वहीं कुछ धर्म बिरोधी लोग पुराने मंदिरों को क्षतिग्रस्त करके कब्जा करने में लगे हुये हैं।ऐसा ही एक मामला थाना एरच क्षेत्र के ग्राम बामौर का है। यहां पर तीन सौ साल पुराना राम जानकी मंदिर को तोड़कर कब्जा करने के जुगाड़ मे है। मंदिर के पुजारी दिलीप कुमार ने एस एस पी से लेकर मुख्यमंत्री को भेजे शिकायती पत्र मे आरोप लगाया कि गांव के निवासी तरूण प्रताप पटेल उर्फ सोनू सहायक अध्यापक प्राथमिक विद्यालय भदरवारा बुजुर्ग पर षड्यंत्र कर मंदिर तुड़वाने का आरोप लगाया। मंदिर के पुजारी दिलीप कुमार का आरोप है कि तरूण प्रताप सिंह पटेल गांव दबंगई करता है। उसने मुझे धमकी दी कि अभी तो हमने मंदिर को थोड़ा ही तुड़वाया है ।किसी दिन पूरा मंदिर को तोड़वा दूंगा। तरूण पटेल इससे पहले पुलिस चौकी के पास स्थित शिवमंदिर को तोड़ने की धमकी दे चुका है ।जिसकी शिकायत भी थानाध्यक्ष एरच से की गयी थी लेकिन तरूण प्रताप की अच्छी पकड़ होने के कारण कोई कार्यवाही नही हो सकी। यदि पुलिस प्रशासन ने गम्भीरतापूर्वक कार्यवाही की होती तो आज तीन सौ साल पुराना मंदिर क्षतिग्रस्त नही होता।मंदिर के पुजारी दिलीप कुमार ने महाराष्ट्र समाज के लोगों से भी मुलाकात कर मंदिर के बारे मे बताया।महाराष्ट्र समाज ने रामजानकी मंदिर को क्षतिग्रस्त करने वाले लोगों की गिरफ्तारी की मांग की।

रिपोर्ट – मुकेश वर्मा/राहुल कोष्टा

ये भी देखें

error: Content is protected !!