June 22, 2024

स्पा सेंटर की आड़ में चल रहा अनेतिक कारोबार, नियमों को ताक पर रखकर कुकरमुत्ते की तरह खुल रहे गली गली

झांसी। जनपद में स्पा सेंटर की आड़ में जमकर हो रहा अनेतिक कारोबार, इस कारोबार को संचालित करने के लिए स्पा सेंटर खोला जाता है। जनपद में गली गली कुकरमुत्ते की तरह सारे नियमों को ताक पर रखकर खुले स्पा सेंटर में अनेतिक कारोबार सीधी भाषा में देह व्यापार का कारोबार जमकर फल फूल रहा है। इस और जिला प्रशासन ध्यान नहीं दे रहा है।सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक स्पा सेंटर में शरीर को सुकून और राहत के लिए बॉडी मसाज की जाती है। स्पा सेंटरों की आड़ में कई देह व्यापार करने वाले माफियाओं ने भी अपना धंधा चमकाने के लिए स्पा सेंटर की आड़ ले ली और सारे नियमों को ताक पर रखकर देह व्यापार का कारोबार जमकर हो रहा। जिम्मेदार अधिकारी जान कर अनजान बने हुए है। मसाज पार्लर के नाम पर खुले कुछ स्पा सेंटर में बाहर से लाई गई युवतियों से मसाज के नाम पर जिस्म फरोशी का कारोबार कराया जाता है। जिम्मेदार अधिकारियों और महिला समाज सेवी संस्थाओं ने आज तक इन स्पा सेंटरों पर जांच पड़ताल कराने की मांग नही की ओर न ही किसी पुलिस व प्रशासनिक अफसरों ने इनकी टीम को मौके पर भेज कर जांच पड़ताल नही कराई। स्पा सेंटरों की आड़ में खुले देह व्यापार के इन अड्डों पर नियमों को ताक पर रख कर केविन बनाई गई है, जबकि सबसे बड़ा नियम तो यही है की स्पा सेंटर की केविन में दरवाजा नही होना चाइए, मसाज लेने वाले व्यक्ति की रजिस्टर में एंट्री और किस चिकित्सक ने उन्हे मसाज की सलाह दी उसकी एंट्री होनी चाइए। लेकिन शहर क्षेत्र में मिशन गेट, नगर निगम के सामने स्थित मार्केट, कचहरी चौराहा, सहित कई अन्य स्थानों पर अवैध रूप से खुले स्पा सेंटरों में सारे नियम कानून ताक पर रख कर चलाए जा रहे है। सूत्र बताते है यह स्पा सेंटर वाले संबंधित थाना के कार खास से संपर्क में रहते है और हर माह उनका तिलक करके सम्मान किया जाता है। यहां तक कि इस स्पा सेंटरों पर आज तक श्रम विभाग ने यहां आकर कार्य करने वाली युवतियों की जानकारी ली की आखिर कितने युवतियां कार्य कर रही ओर वह अपनी मर्जी से कर रही या उनसे जबरन कार्य कराया जा रहा यही नहीं आज तक श्रम विभाग ने यह भी जानकारी नहीं जुटाई की इस युवतियों को कितना वेतन मिलता है। स्पा सेंटर की आड़ में देह व्यापार चलाने वाले इस मफियाओं को बड़ी बड़ी पोश इलाकों में स्थित बिल्डिंग संचालक ऊंचे दामों में किराए से बिल्डिंग दे देते है। उन्हे इस बात से कोई लेना देना नही की इनकी बिल्डिंग में खुले इस अवैध नियमों को ताक पर रखने वाले स्पा सेंटर आस पास के वातावरण को दूषित कर रहे है।

रिपोर्ट – मुकेश वर्मा/राहुल कोष्टा

error: Content is protected !!