July 17, 2024

गलत वरासत दर्ज करने पर लेखपाल के विरूद्ध प्राथमिकी दर्ज किये जाने के मण्डलायुक्त ने दिये निर्देश

झांसी। मण्डलायुक्त डॉ० अजय शंकर पाण्डेय द्वारा जोगेन्द्र कुमार, पुलिस उपमहानिरीक्षक, झाँसी परिक्षेत्र, झाँसी के साथ आज दिनांक 21-5-2022 को सम्पूर्ण समाधान दिवस के अवसर पर जनपद झॉसी की तहसील टहरौली में प्रतिभाग किया गया। जहां पर एक रोचक प्रकरण प्रकाश में आया। श्री चतुर्भुज पुत्र श्री नथू दागी निवासी ग्राम बिजना तहसील टहरौली द्वारा अवगत कराया गया कि वह जीवित है किन्तु उसके हिस्से की भूमि संख्या 89च रकवा 0.049080 स्थित ग्राम बासर तहसील टहरौली को गांव के दूसरे समनाम के व्यक्ति (श्री चतुर्भज पुत्र नधु अहिरवार) के नाम वरासतन दर्ज कर दी गयी है, जबकि प्रार्थी वर्तमान में जीवित है वह जाति का ठाकुर है और मृतक व्यक्ति चतुर्भुज जाति का अहिरवार था। उक्त शिकायत प्राप्त होने पर मण्डलायुक्त द्वारा सख्त नाराजगी जाहिर करते हुए इस प्रकरण की तत्काल जांच कराने एवं जांचोपरात दोषी पाये जाने पर उत्तरदायी लेखपाल के विरूद्ध प्राथमिकी दर्ज कराने हेतु उपजिलाधिकारी को निर्देश दिये गये। श्रीमती मानकुवर पूर्व प्रधान पत्नी हरसहाय निवासी ग्राम नोटा द्वारा अवगत कराया गया कि उनके गांव में ग्रामसभा की भूमि संख्या – 1456 के 15X13 वर्ग फीट पर दबंग व्यक्ति मलखान सिंह पुत्र भाँदलाल व मलखान के पुत्र छत्रसाल उर्फ मुनमुन व महेन्द्र पाल ने वर्ष 2015 में अवैध कब्जा कर मकान बना लिया था, जिसका मुकदमा तहसीलदार, टहरौली के न्यायालय अंतर्गत धारा 67 उ0प्र0 राजस्व संहिता के अंतर्गत ग्राम सभा बनाम मलखान सिंह चला था, जिसमें दिनांक 27-9-2017 को विपक्षीगण के विरूद्ध बेदखली का आदेश पारित किया गया था किन्तु अभी तक उक्त जमीन को बेदखल नहीं किया गया है। उक्त शिकायत पर मण्डलायुक्त डॉ० अजय शंकर पाण्डेय द्वारा गहरी नाराजगी जाहिर करते हुये तहसीलदार टहरौली को निर्देशित किया गया कि स्वयं मौके पर जाकर नियमानुसार विधिक कार्यवाही करते हुए 03 दिन के भीतर अवगत कराये तथा अवैध अतिक्रमणी के विरूद्ध भी नियमानुसार कार्यवाही भी सुनिश्चित की जाय। श्रीमती गुड्डी देवी पत्नी स्व० मलखान सिंह निवासी ग्राम परसा तहसील टहरौली द्वारा अवगत कराया गया कि उनके पति की मृत्यु एक दुर्घटना में हो गयी थी। मृत्यु को हुए दो वर्ष हो गये हैं किन्तु अभी तक कृषक दुर्घटना बीमा के अन्तर्गत लाभान्वित नहीं कराया गया है। उपजिलाधिकारी को निर्देशित किया गया कि प्रकरण की जांच कराये तथा प्रार्थिया को नियमानुसार देव लाभ दिलाना सुनिश्चित करें। विलम्ब करने वाले कर्मचारियों के विरूद्ध भी आवश्यक कार्यवाही सुनिश्चित करें। मण्डलायुक्त डॉ० अजय शंकर पाण्डेय ने अवगत कराया कि वर्तमान समय में खेत खाली हैं तथा जमीन सम्बन्धी विवादों को निपटाने के लिये यह सर्वोत्तम अवसर है। सम्पूर्ण समाधान दिवस में दिनांक 21-4-2022 को तहसील टहरौली में कुल 127 शिकायतें प्राप्त हुई, जिसमें से 70 शिकायत राजस्व विभाग एवं 21 शिकायत पुलिस विभाग तथा अन्य 36 शिकायतें अन्य विभागों की प्राप्त हुथी, जिसमें से अधिकांश शिकायतें जमीन से संबंधित विवादों की प्राप्त हुई जिसमें से सर्वाधिक शिकायतें चकरोड़, नाली से या अन्य सार्वजनिक जमीनों पर अवैध कब्जे से सम्बन्धित प्राप्त हुई। समय से हृदबन्दी की कार्यवाही भी पूर्ण न करने के सम्बन्ध में कतिपय व्यक्तियों द्वारा अवगत कराया गया। मण्डलायुक्त डॉ० अजय शंकर पाण्डेय द्वारा यह भी निर्देश दिये गये है कि एक अभियान चलाकर चकरोड़, नाली या अन्य सार्वजनिक जमीनों पर अवैध कब्जे को हटवाकर अतिकमणी के विरुद्ध विधिक कार्यवाही सुनिश्चित करायी जाय तथा सभी चकराड़ों को अतिक्रमणमुक्त कराकर खाली कराये गये चकरोड पर ग्राम प्रधान / विकास विभाग / पंचायत विकास के माध्यम से मिट्टी डलवाकर सुरक्षित करवाया जाय ताकि पुनः अतिक्रमण की संभावनायें न रह जाय। उन्होंने हदबंदी की साप्ताहिक प्रगति रिपोर्ट भी भिजवाने हेतु मण्डल के तीनों जिलाधिकारियों को पत्र निर्गत कर निर्देशित किया।

रिपोर्ट – मुकेश वर्मा/राहुल कोष्टा