May 24, 2024

फायरिंग प्रकरण में ट्रायल शुरू, डीजीसी ने किया स्पॉट निरीक्षण, संजय वर्मा ने मांगी सुरक्षा

झांसी। तीन वर्ष पूर्व दिनदहाड़े कचहरी चौराहा पर कारोबारी संजय वर्मा की हत्या करने के लिए की गई ताबड़तोड़ फायरिंग की घुटना प्रकरण का अब कोर्ट ट्रायल शुरू हो गया। गुरुवार को डीजीसी की ने अपनी टीम ओर न्यायालय के कर्मचारियों के साथ घटना स्थल का बारीकी से निरीक्षण किया। वही मुकदमा वादी संजय वर्मा ने न्यायालय सहित पुलिस अफसरों को पत्र देकर मुकदमा निस्तारण न होने तक सुरक्षा की मांग की है।मालूम हो की वर्ष 2018 में जनपद के बड़े कारोबारी संजय वर्मा और उनके साथियों पर जान से मारने की नियत से पुरानी रंजिश के चलते पूर्वांचल के बदमाशों को भाड़े पर बुलाकर हत्या कराने की कचहरी चौराहा पर दिन दहाड़े बंदूकों से ताबड़तोड़ फायरिंग की थी।

इस घटना में संजय वर्मा के प्राइवेट सुरक्षा कर्मी जय गोशवामी की मौत हो गई थी। वही संजय वर्मा ने इस मामले नवाबाद थाना मे ग्राम लकारा निवासी सरदार सिंह गुर्जर सहित दर्जनों आरोपियों पर मुकदमा दर्ज कराया था। इस मामले में दो पूर्वांचल के शूटरों सहित 14 आरोपी जेल में है। इस मामले की विवेचना झांसी पुलिस के छीन कर जालौन पुलिस को भी सौपी गई थी। वही एक आरोपी ने खुद को निर्दोष बताते हुए सीबीसीआईडी जांच की मांग की थी। वही सीबीसीआईडी की जांच गोपनीय होने पर उसका एक पर्चा आरोपी के पास पहुंच गया था और वह पर्चा सीबीसीआईडी द्वारा दाखिल न होकर आरोपी द्वारा दाखिल किया गया था। जिससे न्यायालय ने गंभीरता से लिया और यह माना की सरकारी गोपनीय दस्तावेज आरोपी के पास कैसे पहुंचा इस पर उन्होंने तत्कालीन विवेचनाधिकारी सीबीसीआईडी के खिलाफ कार्यवाही और जांच के लिए शासन को पत्र लिखा था वही उस आरोपी को भी गिरफ्तार करने के निर्देश दिए थे। डीजीसी मृदुल कांत श्रीवास्तव ने बताया की घटना काफी संगीन है मुकदमा जिला न्यायालय में अब ट्रायल पर आ गया है, आरोपियों को सही सजा दिलाएं जाने के लिए उनकी टीम ओर न्यायालय द्वारा गुरुवार की सुबह कचहरी चौराहा पहुंच कर इंची टेप से बारीकी से निरीक्षण किया गया और क्राइम सीन भी दोहराया गया गया है। वही मुकदमा वादी से घटना का क्राइम सीन दोहराया गया है। डीजीसी ने बताया की मुकदमा ट्रायल पर है न्यायालय में 23 मई तारीख लगी हुई है। वहीं मुकदमा वादी संजय वर्मा ने अपनी हत्या की आशंका जाहिर करते हुए जब तक मुकदमा की प्रक्रिया पूरी नही हो जाती सुरक्षा की मांग की है। आपको बता दे की अजय वर्मा हत्याकांड में राजीनामा न करने पर इस घटना को अंजाम दिया गया था।

रिपोर्ट – मुकेश वर्मा/राहुल कोष्टा

error: Content is protected !!