June 22, 2024

कन्डेक्टर ने बचाई यात्री की जान, पूर्व मंत्री ने की सराहना किया सम्मानित

झांसी। कन्डेक्टर ने बचाई यात्री की जान, पूर्व केंद्रीय मंत्री प्रदीप जैन ने कन्डेक्टर के इस सराहनीय कार्य की भूरी भूरी प्रशंशा करते हुए उन्हे सम्मानित किया साथ ही अपने फेस बुक पेज पर कन्डेक्टर के इस सराहनीय कार्य की प्रशंसा करते हुए लोगो को जागरूक कर विभाग से भी कंडेक्टर को सम्मानित कराने का आग्रह किया। पूर्व केंद्रीय मंत्री प्रदीप जैन ने अपने फेस बुक बॉल पर लिखा आज मैं सुबह ट्रेन22221 Nijamudin Bombay राजधानी एक्सप्रेस से झाँसी से दिल्ली जा रहा हूँ। ट्रेन जैसे ही प्लैट्फ़ॉर्म रुकी मैंने देखा ट्रेन के कंडक्टर तेज़ी से उतरे और दौड़ने लगे मैंने अपनी बर्थ के वारे में पूछना चाहा तो उन्होंने जवाब नहीं दिया और आगे घबड़ाकर बढ़ते गये उनके चेहरे पर पसीना भी आ रहा था।मैं समझ नहीं पाया क्या कारण है। तभी मैने देखा कि सामने से एक लेडी डॉक्टर आ रही थी और उन कंडक्टर महोदय जी ने तत्काल उनसे बात की और 2nd A/C के कोचA-1 में एक यात्री के पास ले गये और उनको ट्रीटमेंट दिलाया; और तब उन्होंने अपनेमाथे का पसीना अपने रुमाल से पौछा तब में समझ गया कि ये इसीलिये परेशान थे ।कोई अपने परिवार के लिये इतना सम्वेदनशील नहीं होता जितने ये भाई एक यात्री के लिये चिंतित थे। फिर जब मे अपनी बर्थ जो A-1 में 19 नम्बर थी उस पा जाकर बैठ गया जब वो कंडक्टर मैंरे पास टिकट चेक करने आये तो मैंने उनका नाम पूछा तो उन्होने बताया कि ये उनकी duty थी।जिसका वो वेतन लेते है मैंने कहा भाई अपना नाम तो बता दो तब बड़ी मुश्किल से बताया कि उनका नाम श्री नर्मदेश्वर दुबे है और वो प्रयागराज(इलाहाबाद) के रहने वाले है। अगर सभी लोग ऐसे ही दुबे जी जैसेकरुणा और प्रेम से ओतप्रोत हो जाये तो देश नयी ऊँचाई को हासिल करेगा।दिल्ली पहुँचने के पहले मुझे जब यह पता चला कि ट्रेन सूपरिंटेंडेंट श्री दुबे जी के कारण वो30-31वर्ष के युवा भाई सकुशल आगरा पहुँच गयें और उनके परिवार के लोग उस युवा को लेनेस्टेशन आयेतो हम सब यात्रियों ने उन्हें सम्मानित किया।और उनसे आग्रह किया कि हम उन्हें वीरांगना लक्ष्मीबाई की माटी में भी सम्मानित करना चाहतें है।वर्तमान में दुबे जी मुम्बई रहते है।

रिपोर्ट – मुकेश वर्मा/राहुल कोष्टा

error: Content is protected !!