May 24, 2024

समाजसेवा करनी है तो श्री राम से मिलिए


झांसी। अक्सर देखा जाता है, लोग समाज सेवा को जुनून कहते है, बात सही है समाज सेवा भी एक जुनून होता है। लेकिन समाज सेवा वही होती है, इस हाथ से लेकर उस हाथ में दो ओर किसी को पता भी न चले। क्योंकि कुछ ऐसे भी समाज सेवा के नाम पर ढोंग धतूरा करते है, शोशल मीडिया पर जैसे मानों उन्होंने जग जीत लिया हो। लेकिन इन कुछ ढोंग धतूरा वालों में एक ऐसा भी शक्श छुपा है, जो समाज सेवा के लिए हमेशा समर्पित है, उसका नाम है श्री राम। हम भगवान श्री राम की बात तो नही कर सकते लेकिन उन्ही के आशीर्वाद से झांसी के शहर क्षेत्र नरिया बाजार में रहने वाला यह व्यक्ति श्री राम नरवरिया की जितनी तारीफ की जाए कम ही है, क्योंकि इस व्यक्ति ने कई गरीब मजलूमों की मदद की ओर आज तक वाह वाही लूटने के लिए किसी शोशल मीडिया का सहारा नही लिया। श्री राम नरवरिया ने कब किसकी मदद कर दी यह जानकारी सिर्फ उस गरीब को या फिर श्री राम नरवरिया को ही पता रहती है। यह हम इसलिए लिख रहे हमारा उद्देश्य श्री राम नरवरिया को स्टार दिलाना नही बल्कि हमारा उद्देश्य की ढोंग धतूरा करने वाले कुछ समाज सेवी उनसे सीख ले की किसी की मदद के नाम पर उसकी तस्वीर और अपना गुण गान मीडिया सोशल मीडिया पर डाल कर गरीब पीड़ित परेशान व्यक्ति की बेइज्जती न करें।
श्री राम नरवरिया ने वर्ष 2016 में उत्तर प्रदेश के बड़े टीवी चैनल पर एक खबर देखी जिसमे बताया गया था की एक गरीब छात्र का बड़े पद पर चयन हुआ लेकिन उसकी फीस भरने के लिए पैसा नही। तत्काल श्री राम ने अपने अकाउंट से पैसे निकाल कर सीधे जनपद झांसी में तैनात एसएसपी मनोज तिवारी के पास पहुंचे और उनके द्वारा वह रुपए उस छात्र तक पहुंचाने का आग्रह किया। फिलहाल उस छात्र आगरा में ही मदद हो गई थी। लेकिन एक बड़ा हौसला श्री राम ने दिखाया था। इनके एक कार्य नहीं इन्होंने पूरे कोरो ना काल में जब तक इनका कारोबार बंद रहा तो इन्होंने अपने परिवार की आगे पीछे की स्थिति छोड़ कर इस कठिन महामारी में अपने अकाउंट से पैसे निकाल निकाल कर गरीब लोगों तक भोजन और खाद्य सामग्री भेजी, जबकि कोरो ना काल जैसी स्थिति में कोई एक केला भी किसी को देता था तो मीडिया शोशल मीडिया में ऐसे लिखा जाता था मानों अपनी जिंदगी की कमाई उस गरीब को दे दी हो।लेकिन आज तक श्री राम कभी चर्चाओं में नही आए। श्री राम नरवरिया सुबह दोपहर शाम इस महामारी में चौराहों पर लगे सुरक्षा कर्मियों को चाय पानी आदि की व्यवस्था करते देखे जाते थे साथ पूरे वर्ष निराश्रित लोगों की मदद करने में गुजार दिया। नरवरिया साहब आज भी वर्षों से लगातार हर मंगलवार को सेंकड़ों लोगों के लिए भोजन के सुबह पैकेट तैयार झांसी भर में हर जरूरत मंद को बांटते है। कई बच्चों की पढ़ाई स्कूल की फीस जैसी समस्याएं कई मासूमों का दिल्ली ग्वालियर मुंबई जैसी जगह इलाज के लिए उन्हें वहां तक भिजवाने का सहयोग करते है और किया है। साथ ही कई गरीब बेटियो की शादियों में सहयोग तथा कईयों की पूरी शादी की जिम्मेदारी भी निभाई। जबकि श्री राम नरवरिया झांसी का कोई बड़ा व्यापारी नही और न ही कोई धन्ना सेठ यह खुद एक चार पहिया का ठेला नैनो मटन शॉप के नाम से खंडेराव गेट पर लगा कर अपने परिवार का भरण पोषण करते है। जब इनसे इतनी विषम परिस्थिति में अपना गम भूल कर दूसरो के गम को मिटाने के बारे में पूछा गया तो श्री राम नरवरिया ने बताया की ईश्वर पर विश्वास रखो वह सबकी मदद करता है, उनके लिए ओर परिवार के लिए बस दो वक्त की रोटी चाइए इसके अलावा उनके पास जो आता है वह उसे दूसरो की सेवा में लगा देते है। उन्होंने बताया समाजसेवा के कार्यों में उनके ऐसे परम मित्र भी है जो उनका सहयोग करते है। एक वक्त ऐसा आया जब दूसरों की मदद करते करते खुद का रखा हुआ पैसा खत्म हो गया और सर पर बिटिया की शादी आ गई लेकिन उन्होंने हार नही मानी उन्होंने सोच रखा था जब हमने कई बेटियो की शादी कराई है तो मेरी बेटी की शादी ईश्वर ही कराएगा। आज उनकी बेटी की भी शादी हो गई और उनका परिवार भी काफी कुशल मंगल है।

रिपोर्ट – मुकेश वर्मा/राहुल कोष्टा

error: Content is protected !!