May 20, 2024

अधिकारी आईजीआरएस पोर्टल की शिकायतों को गंभीरता से लेते हुए निस्तारण करना सुनिश्चित करें शिकायतों के निस्तारण में शिथिलता एवं लापरवाही किसी भी दशा में बर्दाश्त नहीं की जाएगी, समाज कल्याण एवं विद्युत विभाग को निस्तारण में सुधार लाए जाने के निर्देश

झांसी। आज जिलाधिकारी श्री रविंद्र कुमार ने आई.जी.आर.एस. एवं अन्य माध्यमों से प्राप्त शिकायतों के संबंध में विकास भवन सभागार में बैठक की। बैठक में जिलाधिकारी ने निर्देश दिये कि जन सामान्य की समस्याओं का गुणवत्तापरक निस्तारण करना मा.शासन की प्राथमिकता का बिन्दु है। इसमें किसी भी प्रकार की लापरवाही क्षम्य नहीं होगी। उन्होंने असंतोषजनक/सी श्रेणीकृत शिकायतों के सम्बन्ध में समीक्षा करने के उपरान्त कहा कि समाज कल्याण विभाग एवं विद्युत विभाग से अधिक संख्या में ऐसी शिकायतें प्राप्त हो रहीं हैं। उन्होंने निर्देश दिये कि असंतोषजनक/सी श्रेणीकृत शिकायतों के संबंध में निर्देश दिये कि विगत 1 माह में प्राप्त शिकायतों एवं असंतोषजनक/सी श्रेणीकृत शिकायतों का प्रतिशत निकालते हुए प्रस्तुत किया जाये, ताकि स्थिति की भलीभांति प्रकार से समीक्षा की जा सके। जिलाधिकारी ने बार-बार प्राप्त हो रहीं शिकायतों/असंतोषजनक/सी श्रेणीकृत शिकायतों के संबन्ध में निर्देश दिये कि ऐसी शिकायतें जो बार-बार प्राप्त हो रहीं हैं, की टॉप-10 सूची तैयार कर ली जाये एवं सर्वप्रथम सम्बन्धी विभाग के अधिकारी को पहले स्पष्टीकरण दिया जाये एवं इसके उपरान्त प्रतिकूल प्रविष्टि दी जाने की कार्यवाही की जाये। उन्होंने निर्देश दिये कि ऐसी शिकायतें जिनसे जनजीवन प्रभावित होने/सुरक्षा प्रभावित होने यथा पेयजल की शिकायत/रोड़ पर गडढा होने पर दुर्घटना आदि का ससमय निस्तारण न होने पर प्रथम बार में स्पष्टीकरण, द्वितीय बार में प्रतिकूल प्रविष्टि एवं तृतीय बार में क्रिमिनल ऑफेंस के दृष्टिगत वैद्यानिक कार्यवाही की जायेगी। उन्होंने समस्त विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिये कि वे भी बार-बार प्राप्त हो रहीं शिकायतों/असंतोषजनक/सी श्रेणीकृत शिकायतों के संबंध में सम्बन्धित अधीनस्थ अधिकारीबार समीक्षा करें एवं अधीनस्थ अधिकारी को नोटिस निर्गत करें एवं 07-दिवस के अन्दर जबाव मांगे। शिकायत सही होने पर अधीनस्थ अधिकारियों की जिम्मेवारी सुनिश्चित कर उनके विरूद्ध निलंबन/प्रतिकूल प्रविष्टि की कार्यवाही सुनिश्चित करें। आई जी आर एस पोर्टल पर तहसील और थाना स्तर पर बार-बार प्राप्त हो रहीं शिकायतों/ असंतोषजनक/सी श्रेणीकृत शिकायतों के संबंध में निर्देश दिये कि इसकी टॉप-5 सूची तैयार कर ली जाये एवं सम्बन्धित अधिकारी की जिम्मेवारी सुनिश्चित की जाये, कार्यवाही की जा सके। बैठक में अपर जिलाधिकारी (नमांमि गंगे) श्री संजय पांडेय द्वारा अवगत कराया गया कि मुख्यमंत्री कार्यालय/शासन/सचिवालय/आयुक्त आदि से प्राप्त संदर्भों का कई दिवस/माह व्यतीत हो जाने के उपरान्त भी निस्तारण नहीं किया जा रहा है, जबकि उक्त शिकायतों के निस्तारण के लिये 02-सप्ताह का समय दिया जाता है। मुख्यतः उप जिलाधिकारी के स्तर पर अधिक शिकायतें लम्बित हैं। उन्होंने निर्देश दिये कि वे उपरोक्त शिकायतों का प्राथमिकता के आधार पर गुणवत्ता पर निस्तारण करायें। उन्होंने कहा कि ऐसी शिकायतें मुख्यतः कमीशन/कोर्ट से सम्बन्धित होती हैं, जिसका समय काउण्टर किया जाना आवश्यक होता है अन्यथा की स्थिति में व्यक्तिगत रूप से सम्बन्धित अधिकारी को बुलाया जाता है, जिससे जिला प्रशासन की छवि धूमिल होती है। उन्होंने निर्देश दिये कि वे ऐसी स्थिति उत्पन्न न होने दें, नहीं तो व्यक्तिगत जिम्मेदारी सुनिश्चित की जायेगी। इस मौके पर अपर जिलाधिकारी नमामि गंगे संजय पांडेय,सीएमओ डॉक्टर अनिल कुमार, एसीएम श्री शशि भूषण, अपर नगर आयुक्त श्री शादाब असलम, डीडीओ श्री सुनील कुमार सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी उपस्थित रहे।

रिपोर्ट – मुकेश वर्मा/राहुल कोष्टा

ये भी देखें

error: Content is protected !!