May 19, 2024

जब जिलाधिकारी के जाने के कुछ समय बाद ही गिरने लगा छत से मलबा हो सकती थी अनहोनी, कुछ माह पहले भी चोटिल हो गए थे कुछ अधिवक्ता

झांसी। प्रदेश के विधि मंत्री द्वारा स्वीकृत धनराशि से कलैक्ट्रेट परिसर स्थित अधिवक्ताओं के चैम्बरों के निर्माण की मांग करीब दो वर्षों से लगातार की जा रही है। जिसके लिए कुछ समय पूर्व जिलाधिकारी ने आचार संहिता समाप्त होने पर निर्माण कार्य शुरू कराए जाने का आश्वासन दिया था। इसे संयोग कहें या कुछ और गुरुवार को मौके पर पहुंचे जिलाधिकारी ने जीर्ण शीर्ण भवन की स्थिति का जायजा लिया और उनके जाने के कुछ समय बाद ही ‌अचानक ध्वस्त किए जाने वाले पुराने अधिवक्ता भवन के मुख्य हाल की छत भर-भराकर गिरने लगी, उक्त हाल में ही लगे टीवी पर अधिवक्ता समाचार या अन्य कार्यक्रम देखते हैं।सौभाग्य सेउस समय जहां से सीलिंग उखड़ कर गिरी अधिवक्ता कुछ दूर बैठे थे, और मलबा गिरते ही वह घबराकर बाहर की ओर भागे। यदि यही सीलिंग चार बजे के बाद गिरती तो कई अधिवक्ता चोटिल हो सकते थे

क्योंकि चार बजे से होने वाले शपथ ग्रहण समारोह का सीधा प्रसारण देखने के अधिवक्ताओं के साथ ही वादकारी भी एकत्रित रहते। ज्ञात हो कि कुछ माह पूर्व भी उक्त हाल से लगे एक कमरे की छत का मलबा गिरने से कुछ अधिवक्ता चोटिल हो गए थे। अधिवक्ताओं का कहना है कि यदि शीघ्र ही पुराने भवन को गिराकर चैम्बरों का निर्माण कार्य शुरू नहीं कराया गया तो कभी भी अनहोनी हो सकती है। अधिवक्ताओं ने करीब 04 करोड़ से अधिक स्वीकृत धनराशि से शीघ्र निर्माण कार्य शुरू कराए जाने की मांग की है, जिससे शासन की योजना का लाभ उन्हें मिल सके। अब देखना यह है कि करीब दो साल से रूका काम कब शुरू हो सकेगा।

रिपोर्ट – मुकेश वर्मा/राहुल कोष्टा

error: Content is protected !!