February 27, 2024

जनपद वासियों से गौरैया (चिड़िया) को बचाए जाने का किया आव्हान : प्रभागीय वनाअधिकारी

  • प्रभागीय वनाअधिकारी ने दिए लोगों को गौरैया पक्षी के संरक्षण हेतु घोंसले

झांसी। “विश्व गौरैया दिवस-2022” के अन्तर्गत झांसी वन प्रभाग झांसी की विभिन्न रेंजो में गौरैया को बचाने के उद्देश्य से जागरूकता कार्यक्रम सम्पन्न कराये गये। इस अवसर पर प्रभागीय वनाधिकारी वी के मिश्रा की अध्यक्षता में झांसी रेंज के अन्तर्गत कमिश्नरी पौधशाला में कार्यक्रम आयोजित किया गया। कार्यक्रम में प्रभागीय वन अधिकारी वी०के० मिश्र द्वारा विलुप्त हो रही गैरैया के बारे पर विस्तृत जानकारी देते हुये अवगत कराया कि गौरैया (चिड़िया) प्रजाति की संख्या में भारी गिरावट को देखते हुये गौरैया पक्षी के संरक्षण / बचाव के उद्देश्य से लोगों को जागरूक करने के लिए वर्ष 2008 से प्रतिवर्ष गौरैया के संरक्षण हेतु यह कार्यक्रम मनाया जा रहा हैं। इन जन-जागरूकता कार्यक्रम की बजह से आज इस चिड़िया की संख्या में 20-30 फीसदी बढ़ोत्तरी देखने को मिल रही हैं। प्रति वर्ष की भाति इस वर्ष भी कार्यक्रम में उपस्थित लोगों को विश्व गैरैया दिवस के अवसर पर 200 घोंसले वितरित कराये गये और इन घोंसलों को अपने मकानों / बाग-बगीचों पर लगाने हेतु कहा गया। उन्होंने अपने उद्बोधन में उपस्थित अधिकारी व बच्चों को बताया कि फसल में कीटनाशकों का अधिक उपयोग, भवनों के पैटर्न में बदलाव, मोबाइल एवं टीवी टावर से निकलने वाले विकिरण जो उनके नेविगेशन को प्रभावित करता है कि कारण गौरैया की संख्या में भारी गिरावट देखने को मिल रही है, इन्हें सुरक्षित करने के लिए अधिक से अधिक लोग अपना सहयोग करें और घरों पर पानी और दाना रहना सुनिश्चित करें ताकि विलुप्त होती जा रही गौरैया को बचाया जा सके। इस कार्यक्रम में वी०के० मिश्र, प्रभागीय वनाधिकारी झांसी, परवेज शहजाद क्षेत्रीय वन अधिकारी झांसी, रौनक अली वनदरोगा प्रद्युमन सिंह वनदरोगा, लक्ष्मण प्रसाद वनदरोगा, महेश यादव वनदरोगा एवं मनोज श्रीवास वनरक्षक पुष्पेन्द्र श्रीवास वनरक्षक सहित वन विभाग के अन्य अधिकारी / कर्मचारी उपस्थित रहे।

रिपोर्ट – मुकेश वर्मा/राहुल कोष्टा

error: Content is protected !!