May 20, 2024

प्रोफेसर डॉ० सीमा पाण्डेय की अध्यक्षता में जल सहेलियों के द्वारा मनाया गया झाँसी में अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस

झांसी। आज राही वीरागंना के सभागार में विश्व महिला दिवस का आयोजन किया गया। इस अवसर पर झांसी एवं ललितपुर की जल सहेलियों के द्वारा सहभागिता की गई। इस अवसर पर मुख्य अतिथि रूप में उपस्थित प्रोफेसर डॉ० सीमा पाण्डेय के द्वारा जल सहेलियों की सराहना की गई। इस दौरान उन्होंने कहा कि बुन्देलखण्ड की सबसे बड़ी समस्या जल है इस जल को लेकर जल सहेलियां जो कार्य कर रही है वही इस महिला दिवस की थीम है आज बुन्देलखण्ड की महिलाएं जलवायु परिवर्तन के लिए लैगिक समानता के साथ लड़ रही है। यह महिला दिवस इन्हीं जैसी महिलाओं पर चरितार्थ होता है। ज्ञातव्य है कि प्रो० डॉ० सीमा पाण्डेय, मण्डलायुक्त, झॉसी की धर्मपत्नी हैं, इनके द्वारा सामाजिक कार्यों में बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया जाता है।

कार्यक्रम में विशिष्ठ अतिथि झाँसी के ट्रैफिक क्षेत्राधिकारी प्रज्ञा पाठक ने कहा कि जिस दिन महिलाएं अपने जीवन के लिए स्वयं निर्णय लेने लगेगी उस दिन वह स्वयं सशक्त हो जाती है। आप सभी महिला सशक्तिकरण लिए स्वयं एक आदर्श है। बुन्देलखण्ड विश्वविद्यालय के सहायक प्राचार्य डॉ० मुहम्मद नईम ने कहा कि आज हम यह विश्व महिला दिवस उन महिलाओं के बीच मना रहे है जो रानी लक्ष्मीबाई की तरह बुन्देलखण्ड को बचाने का बीड़ा उठाये हुयी है। इसमें उनका साथ परमार्थ समाज सेवी संस्थान के द्वारा दिया जा रहा है।नबाबाद थाना की महिला थानाध्यक्ष नीलेश कुमारी ने कहा कि यह देखकर बड़ा अच्छा लग रहा है कि महिलाएँ विश्व महिला दिवस को एक त्यौहार जैसा मना रही है। जिस दिन हम अपने अधिकारों को जान जायेगे आप अपने आपसशक्त हो जायेगे।परमार्थ समाज सेवी संस्थान की राज्य समन्वयक शिवानी सिंह ने कहा कि जल सहेली जो पानी के संकट को दूर करने का काम कर रही है. इनके कामों को लेकर जल शक्ति मंत्रालय के द्वारा इन्हें सम्मानित किया गया है। इन्होंने पानी के लिए तरसते हुए बुन्देलखण्ड को फिर से पानीदार बनाने का प्रयास किया है जिसके कारण इन्हें कई राष्ट्रीय और अन्तर्राष्ट्रीय सम्मान से नवाजा गया है। इस महिला दिवस की थीम जलवायु परितवन को लेकर लैंगिक समानता है। यह इस थीम को जीता जाता उदाहरण है।साहित्य के क्षेत्र में काम कर रही डॉ० निधी अग्रवाल ने कहा कि आप लोगों के पास एकता की शक्ति है, आज यह शक्ति आप सबमें दिख रही है। खुद अपने बदलाव के साथ अपने समाज में बदलाव में भी बदलाव लाये और अधिक महिलाओं को जोड़े, जिससे बुन्देलखण्ड पानीदार बन सके।कार्यक्रम में झांसी एवं ललितपुर में जिले में अपने-अपने क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाली 10 महिलाओं (अनुष्ठाराजपूत, जिया यादव, निधि नागर, कृष्णा राजपूत, जलेव राजा, पूजा सहरिया, कमला, सुशीला देवी) को वीरागंना सम्मानसे भी नवाजा गया।इससे पहले सभी जल सहेलियों के द्वारा ईलाइट चौराहे से राही वीरागंना सभागार तक रैली निकाली गयी। कार्यक्रम में मंच का संचालन सिद्धगोपाल सिंह ने किया उन्होंने कहा महिलाओं का अपनी पहचान साबित करने के लिए खुद आगे आना होगा इन सभी जल सहेलियों ने यह करकर दिखाया है। इस अवसर पर चाइल्ड लाइन प्रभात कुमार, सत्यम, सोनिया पस्तोर, अनुज्ञा सिंह, मनोज पाल, गौरव पाण्डे, राखी, रामलखन, सुनील, सुदामा मीरा, मीना, रानी, गीता, सिरकुवर सहित 1 सैकड़ा से अधिक जल सहेलिया उपस्थित रही। आभार व्यक्त जगरूप सिंह के द्वारा किया गया।

रिपोर्ट – मुकेश वर्मा/राहुल कोष्टा

ये भी देखें

error: Content is protected !!