July 14, 2024

मण्डलायुक्त ने बबीना में निर्माणाधीन 195 एम.एल.डी. जल शोधन संयंत्र का निरीक्षण किया गया

झांसी। आज मण्डलायुक्त ने झांसी महानगर में पेयजल की आपूर्ति की सुनिश्चिता हेतु बबीना स्थित निर्माणाधीन 195 एम.एल.डी. जल शोधन संयंत्र का निरीक्षण किया गया, साथ ही साथ क्लीयर वाटर ग्रेविटी मेन में पहाड़ी क्षेत्र में हार्ड रॉक होने के कारण कार्य की धीमी प्रगति से पेयजल आपूर्ति में होने वाले बिलम्व को दूर करने हेतु जल निगम के अधिशासी अभियन्ता एवं निर्माण कार्य में लगी फर्म मै० तहल कन्सल्टिंग इंजीनियर्स इण्डिया प्रा० लि०, झॉसी ऑफिस 336, सी.पी. मिशन कम्पाउण्ड, सिविल लाइन झॉसी जे.वी. कान्कीट उद्योग लि० प्लाट नं. 5, 6, 7 इण्डस्ट्रियल एरिया बिजौली, झॉसी के प्रतिनिधि राजेश पाठक को अधिक टीम लगाकर कार्य करने हेतु निर्देशित किया गया है। जनपद झॉसी में अमृत कार्यकम के अन्तर्गत झॉसी पुनर्गठन पेयजल योजना झाँसी की प्रगति के सम्बन्ध में अधिशासी अभियन्ता, निर्माण खण्ड, उ०प्र० जल निगम (नगरीय), झाँसी द्वारा अवगत कराया गया कि योजना की स्वीकृत लागत रू. 60042.87 लाख है। कार्य प्रारम्भ की तिथि 21.06.2019 कार्य समाप्ति की तिथि 20.06.2022 समयावृद्धि उपरान्त तिथि 31.03.2024 है। योजना के कार्यों की सम्मलित कुल प्रगति 80 प्रतिशत है। इन्टेक बैल का कार्य 68 प्रतिशत, सी.पी. टैन्क का कार्य 90 प्रतिशत, 23.20 किमी0 रॉ वाटर ग्रेविटी मने के सापेक्ष 21.70 किमी०, वाटर ट्रीटमेन्ट प्लान्ट का कार्य 75 प्रतिशत तथा 26.84 किमी० क्लीयर वाटर ग्रेविटी मेन के सापेक्ष 2140 किमी0, 10 नग सी. डब्ल्यूआर का कार्य 82 प्रतिशत, 9 शिरोपरि उच्चजलाशय का कार्य 56 प्रतिशत, वितरण प्रणाली 288.20 कि.मी. के सापेक्ष 157 कि.मी. एवं पेयजल गृह संयोजन 21144 के सापेक्ष 9150 नग पूर्ण हो चुका है। निरीक्षण के दौरान इं0 मुकेश पाल सिंह, अधिशासी अभियन्ता, निर्माण खण्ड, उ०प्र० जल निगम (नगरीय), झांसी, इं० अखिलेश बाबू, सहायक अभियन्ता, निर्माण खण्ड, उ०प्र० जल निगम (नगरीय), इ० अंकित पटेल / इं० रवि शुक्ला, जूनियर इंजीनियर, निर्माण खण्ड, उ०प्र० जल निगम (नगरीय), झांसी, अतुल कुमार, परियोजना प्रबन्धक, मै० तहल कन्सल्टिंग इंजीनियर्स इण्डिया प्रा० लि०. राजकुमार पाण्डेय, इंजीनियर, मै० तहल कन्सल्टिंग इंजीनियर्स इण्डिया प्रा० लि०. राजेश पाठक, जी.एम. मैसर्स कन्क्रीट उघोग लि० सहित अन्य अधिकारीगण उपस्थित रहे।

रिपोर्ट – मुकेश वर्मा/राहुल कोष्टा