July 14, 2024

प्रमुख रबी फसलों एवं मसूर बीज उत्पादन एवं कृषि प्रबंधन पर आयोजित प्रशिक्षण का हुआ समापन

झाँसी। गुरुवार रानी लक्ष्मी बाई केन्द्रीय कृषि विश्वविद्यालय झाँसी द्वारा आयोजित दो प्रशिक्षण कार्यक्रम “प्रमुख रबी फसलों बीज उत्पादन एवं कृषि प्रबंधन” (4-8 मार्च) तथा “मसूर बीज उत्पादन एवं कृषि प्रबंधन” (7-8 मार्च) का आज समापन हुआ। समापन सत्र मे निदेशक प्रसार शिक्षा डॉ एसएस सिंह ने प्रशिक्षणार्थियों को बताया की आने वाले समय मे किसान मसूर को पोर्टल पर पंजीकरण कर इसे सीधे सरकार को बेंच सकते हैं,साथ ही उन्होंने किसानों को 10 साल के अंदर विकसित किस्मों को उपयोग करने का सलाह दी। उन्होंने किसानों को गुणवत्ता युक्त बीज उत्पादित कर अधिक लाभ कमाने हेतु प्रेरित किया। अध्यक्षीय उद्बोधन में निदेशक शोध डॉ. एसके चतुर्वेदी ने कहा कि बीज उत्पादन के दौरान खेतों का नियमित निरीक्षण किया जाना चाहिए। इसके लिए उपयुक्त समय सुबह 10 बजे के पहले तथा शाम को 3.30 बजे के बाद का है। उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया की बीज उत्पादन के दौरान किसानों को बीजों को अन्य प्रजाति के बीजों से मिश्रित होने से बचना चाहिए। इस दौरान डॉ. जितेंद्र कुमार तिवारी, डॉ राकेश चौधरी, डॉ. आशीष कुमार गुप्ता, डॉ. संजीव कुमार, डॉ. कार्तिकय आदि उपस्थित रहे। मंच संचालन डॉ. अर्तिका सिंह एवं डॉ. रुमाना खान ने आभार व्यक्त किया।

रिपोर्ट – मुकेश वर्मा/राहुल कोष्टा